tags

Best Anil_kr Shayari, Status, Quotes, Stories, Poem

Find the Best Anil_kr Shayari, Status, Quotes from top creators only on Nojoto App. Also find trending photos & videos.

  • 1 Followers
  • 8 Stories
  • Latest Stories

"दो दिलों की दूरियां, कभी तुम भी मिटा दिया करो..! कुछ हमने निभाई है, तो कुछ तुम भी निभा दिया करो..!! आखिर कब तक इन ज़ख्मो को, ढ़कते रहेंगे हम..! कभी-कभी ही सही, मरहम तुम भी लगा दिया करो..!! #Anil_kr..✍ @self_written"

दो दिलों की दूरियां, 
कभी तुम भी मिटा दिया करो..!
कुछ हमने निभाई है, 
तो कुछ तुम भी निभा दिया करो..!!
आखिर कब तक इन ज़ख्मो को,
ढ़कते रहेंगे हम..!
कभी-कभी ही सही,
मरहम तुम भी लगा दिया करो..!!
#Anil_kr..✍
@self_written

मरहम तुम भी लगा दिया करो..!!
#Anil_kr..✍ #nojoto_hindi
#nojoto_news #nojoto
@soul @Anisha @Yash babu @Laiba Siddiqui @Suman Zaniyan @Reenu Anu

6 Love

"इश्क:- अंधेर_नगरी😎 लड़का:- चोपट_राजा 😵 लड़की:- टका_शेर_भाजी 😍 ज़िन्दगी:- टके शेर खाजा 😜 ........................ इश्क की गहराई, मानो समंदर में #कूदना है...! तैरने से क्या लाभ..? जब #ड़ूबना_ही_ड़ूबना है..!!! #Anil_kr..✍ @self_written"

इश्क:- अंधेर_नगरी😎
लड़का:- चोपट_राजा 😵
लड़की:- टका_शेर_भाजी 😍
ज़िन्दगी:- टके शेर खाजा 😜
........................
इश्क की गहराई, 
मानो समंदर में #कूदना है...!
तैरने से क्या लाभ..?
जब #ड़ूबना_ही_ड़ूबना है..!!!
#Anil_kr..✍ @self_written

#Anil_kr..✍ @self_written

4 Love
1 Share

"निशब्द हूँ, स्तब्ध हूँ, इस ज़िन्दगी को देखकर..! जिस ज़िन्दगी को नोच के इंसान खुद ही खा रहा..!! मान क्या, सम्मान क्या, ये जान भी ना छोड़ते..! इंसान हैं य़ा भेडिये, समझ में कुछ ना आ रहा..!! जब राह से गुजरी कभी, वो लाज चूनर ओढ़कर..! तो ज़ालिमो ने शर्म को भी, रख दिया निचोड़कर..!! वो निकली थी घर से, तुम्हारे डर से करने सामना..! पर बेशरम तू हो गया , बढ़ने लगी जब कामना..!! तू कुछ तो कर देता रहम, उस बेकसूर ज़िस्म पर...! मिट गयी थी जब हवस, तो देख लेता सोच कर..!! करने से पहले काम ये, तू वक़्त से कुछ सीख ले..! ऐ ज़िस्म के भूखे, तू घर में माँ, बहन को देख ले..!! खामोश हूँ, आक्रोष हूँ, इंसानियत ये देखकर..! हैवानियत का रुप जब, इंसान रखता जा रहा..!! है कर्म क्या, कुकर्म क्या, परवाह नहीं हैवान को...! इंसान हैं य़ा भेडिये, समझ में कुछ ना आ रहा..!! निशब्द हूँ, स्तब्ध हूँ, इस ज़िन्दगी को देखकर..! जिस ज़िन्दगी को नोच के इंसान खुद ही खा रहा..!! #Anil_kr...✍"

निशब्द हूँ, स्तब्ध हूँ, इस ज़िन्दगी को देखकर..!
जिस ज़िन्दगी को नोच के इंसान खुद ही खा रहा..!!
मान क्या, सम्मान क्या, ये जान भी ना छोड़ते..!
इंसान हैं य़ा भेडिये, समझ में कुछ ना आ रहा..!!

जब राह से गुजरी कभी, वो लाज चूनर ओढ़कर..!
तो ज़ालिमो ने शर्म को भी, रख दिया निचोड़कर..!!
वो निकली थी घर से, तुम्हारे डर से करने सामना..!
पर बेशरम तू हो गया , बढ़ने लगी जब कामना..!! 
तू कुछ तो कर देता रहम, उस बेकसूर ज़िस्म पर...!
मिट गयी थी जब हवस, तो देख लेता सोच कर..!!
करने से पहले काम ये, तू वक़्त से कुछ सीख ले..!
ऐ ज़िस्म के भूखे,  तू घर में माँ, बहन को देख ले..!!

खामोश हूँ, आक्रोष हूँ, इंसानियत ये देखकर..!
हैवानियत का रुप जब, इंसान रखता जा रहा..!!
है कर्म  क्या, कुकर्म  क्या, परवाह नहीं हैवान को...! 
इंसान हैं य़ा भेडिये, समझ में कुछ ना आ रहा..!!
निशब्द हूँ, स्तब्ध हूँ, इस ज़िन्दगी को देखकर..!
जिस ज़िन्दगी को नोच के इंसान खुद ही खा रहा..!!
#Anil_kr...✍

निशब्द हूँ, स्तब्ध हूँ, इस ज़िन्दगी को देखकर..!
जिस ज़िन्दगी को नोच के इंसान खुद ही खा रहा..!!
#Anil_kr...✍

5 Love

"ना लफ्ज भूला हूँ, ना कोई #बात भूला हूँ, ना रिश्ते, ना अपनी #जात भूला हूँ...! ना इश्क, मोहब्बत, ना #ख्वाब भूला हूँ, ना हस्ती को अपनी, ना #औकात भूला हूँ..! ना ख्वाहिश, ना कोई #ज़ज्बात भूला हूँ, ना वादे, ना शिकवे, #हालात भूला हूँ..! ना वो मध्यम हवा, ना #बरसात भूला हूँ, ना चाँद, ना चांदनी #रात भूला हूँ..! ना वो लम्हा, ना पहली #मुलाकात भूला हूँ, ना भूला तुझे, ना #तेरा_साथ भूला हूँ..! #Anil_kr..✍@self_written"

ना लफ्ज भूला हूँ, ना कोई #बात भूला हूँ,
ना रिश्ते, ना अपनी #जात भूला हूँ...!

ना इश्क, मोहब्बत, ना #ख्वाब भूला हूँ,
ना हस्ती को अपनी, ना #औकात भूला हूँ..!

ना ख्वाहिश, ना कोई #ज़ज्बात भूला हूँ,
ना वादे, ना शिकवे, #हालात भूला हूँ..!

ना वो मध्यम हवा, ना #बरसात भूला हूँ,
ना चाँद, ना चांदनी #रात भूला हूँ..!

ना वो लम्हा, ना पहली #मुलाकात भूला हूँ,
ना भूला तुझे, ना #तेरा_साथ भूला हूँ..!
#Anil_kr..✍@self_written

ना लफ्ज भूला हूँ, ना कोई #बात भूला हूँ,
ना रिश्ते, ना अपनी #जात भूला हूँ...!

10 Love

"इश्क #समन्दर से था, किनारे #लहरों ने कर दिया..! तलाश किसी #अपने की थी, गुजारा #गैरों ने कर दिया..!! #Anil_kr..✍"

इश्क #समन्दर से था, 
किनारे #लहरों ने कर दिया..!
तलाश किसी #अपने की थी,
गुजारा #गैरों ने कर दिया..!!
#Anil_kr..✍

#इश्क_ए_समन्दर

8 Love