ख़ामोशी में गहराई , और दिन में रात सा साया है.... | हिंदी Poem

"ख़ामोशी में गहराई , और दिन में रात सा साया है.... रौशन ख्वाब था इश्क़ , शुक्र है...... नींद से तुमने जगाया है....!!"

ख़ामोशी में गहराई ,
और दिन में रात सा साया है....

रौशन ख्वाब था इश्क़ ,
शुक्र है......
नींद से तुमने जगाया है....!!
People who shared love close

More like this