Gulshan_Dwivedi

Gulshan_Dwivedi Lives in Etawah, Uttar Pradesh, India

📚 🅱🅸🅱🅻🅸🅾🅿🅷🅸🅻🅴 ✍️ Instagram page - thoughts__of___mind

  • Popular
  • Latest
  • Repost
  • Video

""

"मैं कहने ही वाला था, पर वो मैं कहने ही वाला था, पर वो बया अपने जज्बात करने लगी मैं खोजता ही रहा खुद को उसके शब्दों में, पर वो ज़िक्र किसी और का करने लेगी।"

मैं कहने ही वाला था, पर वो मैं कहने ही वाला था, पर वो
बया अपने जज्बात करने लगी
मैं खोजता ही रहा खुद को उसके शब्दों में, पर वो
ज़िक्र किसी और का करने लेगी।

#Adhuri_baat
#nojotohindi
#SAD
#शायरी
#Shayari

128 Love

""

"रात के करीब एक बजे थे| उनका कॉल आया और रात के करीब एक बजे थे, उनका कॉल आया और कुछ पल तो दोनों और खामोशियों का दौर आया फिर गिले - शिकवे दूर करने का समय आया सिसकियां उनकी सुनकर मुझे तो बस उनपर प्यार आया।"

रात के करीब एक बजे थे| उनका कॉल आया और रात के करीब एक बजे थे, उनका कॉल आया और
कुछ पल तो दोनों और खामोशियों का दौर आया
फिर गिले - शिकवे दूर करने का समय आया
सिसकियां उनकी सुनकर मुझे तो बस उनपर प्यार आया।

#Vo_Call
#शायरी
#विचार
#Shayari
#Love
#nojotohindi

119 Love

""

"उसने अपने आख़िरी शब्द कहे, और चली गयी सुलाकर मुझे, सपनों में वो किसी और के चली गयी कभी मंदिरों में मेरी लंबी उम्र माॅगने वाली आज गलत मुझको ठहराकर, दफन मुझे जिन्दा करके चली गयी।"

उसने अपने आख़िरी शब्द कहे, और चली गयी
सुलाकर मुझे, सपनों में वो किसी और के चली गयी 
कभी मंदिरों में मेरी लंबी उम्र माॅगने  वाली
आज गलत मुझको ठहराकर, दफन मुझे जिन्दा करके चली गयी।

#Akhiri_shabd
#शायरी
#विचार
#कविता
#nojotohindi
#SAD
#Shayari
#Love

114 Love

""

"🌹🌹🌹🌹 कविता🌹🌹🌹🌹 है काल का ये कैसा घेरा परिणाम है प्रकृति से मुंह जो फेरा कभी प्रातः बेला सैर करता था मानव अब शुद्ध वायु में छिपा लगता है कोई दानव कभी पिंजरों में कैद रहती पर हस्ती थी मासूमियत अब अपनों के साथ है पर रोती है इंसानियत कभी धर्म की राजनीति करना हथियार था नेताओ का अब दर्पण देखो तुम ये कौन सा वक़्त था चुनाव का कभी जान पर बन आयी तो साथ तुम्हारा निभाया था फिर तुमने अब खाकी और सफेद कोट पर हथियार कैसे चलाया था अपने इन कर्मो से निगाह मिलाओगे कैसे घर खुदा के जाना है तुम खुद को बचाओगे कैसे। 🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹"

🌹🌹🌹🌹 कविता🌹🌹🌹🌹

है काल का ये कैसा घेरा
परिणाम है प्रकृति से मुंह जो फेरा

कभी प्रातः बेला सैर करता था मानव
अब शुद्ध वायु में छिपा लगता है कोई दानव

कभी पिंजरों में कैद रहती पर हस्ती थी मासूमियत
अब अपनों के साथ है पर रोती है इंसानियत

कभी धर्म की राजनीति करना हथियार था नेताओ का
अब दर्पण देखो तुम ये कौन सा वक़्त था चुनाव का

कभी जान पर बन आयी तो साथ तुम्हारा निभाया था
फिर तुमने अब खाकी और सफेद कोट पर हथियार कैसे चलाया था

अपने इन कर्मो से निगाह मिलाओगे कैसे
घर खुदा के जाना है तुम खुद को बचाओगे कैसे।

🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

#nojotohindi
#poem
#कविता #NojotoFilms #writer #विचार #corona #HUmanity #बात

113 Love
6 Share

""

"मैं अब आसमान की ओर भी नहीं देखता कहीं टूटता तारा देखकर दिल फिर से तुझे मांगने की हसरत न कर दे।"

मैं अब आसमान की ओर भी नहीं देखता कहीं टूटता तारा देखकर
दिल फिर से तुझे मांगने की हसरत न कर दे।

#SAD #Pain #2liner #girl
#brokenheart #BreakUp #Couple #Shayari #शायरी
#nojotohindi @verma priya✍️ @आशुतोष यादव

110 Love