Rashmi Vats

Rashmi Vats

एक लेखिका ।

  • Latest
  • Popular
  • Video

चाहते कब किसी की होती हैं पूरी । कुछ होती हैं मुक्कमल तो, कुछ रह जाती हैं अधूरी । चांद पाने की ख्वाइश होती है सभी की, पर अमावस की हिस्सेदारी भी है जरूरी । दिल के किसी कोने में, हम भी दर्द छुपाए बैठे हैं । दफ़न हुई यादों की, चिता जलाए बैठे हैं । तेरे संग गुजारे हुए बेशकीमती लम्हों की, सौगात छुपाए बैठे हैं । रश्मि वत्स...। ©Rashmi Vats

#ख्वाइश #कविता #अधूरी #चाहत #दफन  चाहते कब किसी की होती हैं पूरी ।
कुछ होती हैं मुक्कमल तो,
कुछ रह जाती हैं अधूरी ।
चांद पाने की ख्वाइश होती है सभी की,
पर अमावस की हिस्सेदारी भी है जरूरी ।
दिल के किसी कोने में,
हम भी दर्द छुपाए बैठे हैं ।
दफ़न हुई यादों की,
चिता जलाए बैठे हैं ।
तेरे संग गुजारे हुए बेशकीमती लम्हों की,
 सौगात छुपाए बैठे हैं ।

रश्मि वत्स...।

©Rashmi Vats

मां का स्नेहिल स्पर्श शिशु को मां की कोख में ही प्राप्त होने लगता है । तभी तो मां का ऋण आज तक कोई भी नही चुका पाया है और ना ही चुका सकता है। रश्मि वत्स ©Rashmi Vats

#विचार #मां #sparsh  मां का स्नेहिल स्पर्श
शिशु को मां की कोख में ही प्राप्त होने लगता है ।
तभी तो मां का ऋण आज तक
कोई भी नही चुका पाया है और ना ही चुका सकता है।

रश्मि वत्स

©Rashmi Vats

हां चली जाऊं दूर कहीं मैं क्षितिज के उस पार मुक्ति पाऊं बंधनों से ना सहूं अनाचार। समा जाऊं सूर्य की लालिमा की भांति जहां अनगिनत रश्मियों का मिलन शांत करता है हृदय की जिज्ञासाओं को । उस किनारे जाना है जहां प्राप्त करूं तन्हाई से शून्य तक के सफर को ....। रश्मि वत्स...। ©Rashmi Vats

#कविता #dawnn  हां चली जाऊं दूर कहीं मैं
क्षितिज के उस पार
मुक्ति पाऊं बंधनों से
ना सहूं अनाचार।
समा जाऊं सूर्य की
लालिमा की भांति जहां
अनगिनत रश्मियों का मिलन
शांत करता है हृदय की
जिज्ञासाओं को ।
उस किनारे जाना है जहां प्राप्त करूं
तन्हाई से शून्य तक के सफर को ....।

रश्मि वत्स...।

©Rashmi Vats

#dawnn

11 Love

पिघलाकर अपनी तपन से, फना ना कर दूं कहीं बस इसी डर की वजह से तेरी नजरों से हूं दूर । रश्मि वत्स....। ©Rashmi Vats

#शायरी #फना #तपन  पिघलाकर अपनी तपन से,
फना ना कर दूं कहीं
बस इसी डर की वजह से 
तेरी नजरों से हूं दूर ।

रश्मि वत्स....।

©Rashmi Vats

यदि हार ना होती तो जीवन में जीत के महत्व का पता कैसे चलता । उसी प्रकार यदि अधर्म ना होता तो, फिर धर्म अर्थहीन ही रह जाता । रश्मि वत्स,,,। ©Rashmi Vats

#विचार #धर्म #मन  यदि हार ना होती तो जीवन में
जीत के महत्व का पता कैसे चलता ।
उसी प्रकार यदि अधर्म ना होता तो,
फिर धर्म अर्थहीन ही रह जाता ।

रश्मि वत्स,,,।

©Rashmi Vats

गुजारिश की मेरे ख्वाबों में तेरे आने को । करवट बदलते रहे नींद की आगोश में समाने को । ना नींद आई ना ,आए तेरे ख्वाब, तरसते रहे हम तुझसे एक मुलाकात पाने को । रश्मि वत्स ....। ©Rashmi Vats

#कविता #Khawab #Neid  गुजारिश की मेरे ख्वाबों में तेरे आने को ।
करवट बदलते रहे नींद की आगोश में समाने को ।
ना नींद आई ना ,आए तेरे ख्वाब,
तरसते रहे हम तुझसे एक मुलाकात पाने को ।

रश्मि वत्स ....।

©Rashmi Vats

#Neid #Khawab

7 Love

Trending Topic