tags

Best NaariDiwas Shayari, Status, Quotes, Stories

Find the Best NaariDiwas Shayari, Status, Quotes from top creators only on Nojoto App. Also find trending photos & videos.

  • 188 Followers
  • 194 Stories
  • Latest
  • Popular
  • Video

""

"A Woman Every women are sacrifice for her son's and daughter but My mother is a son fucker ©Santu ( modelar )"

A Woman Every women are sacrifice for her son's and daughter but My mother is a son fucker

©Santu ( modelar )

#NaariDiwas

7 Love

#jaishankarprasad #SheTheHero #NaariDiwas #Naari #Naarishakti #Women #Woman #Womenempowerment #Women_Special #WomansDay

9 Love
308 Views
2 Share

""

"A Woman मेरी आदर्श मेरी मां आदर्श हे मेरी, जो कष्टों में भी गाती है जीवन के गीत सुनाती है मां अपनी संतान के खातिर, अपना सर्वस्व लुटाती है त्याग तपस्या की मूरत, मां सूरत है भगवान की दुनिया में सबसे अच्छी है, मां ही सकल जंहान की मेरी आदर्श बहन है मेरी, आशीषों से झोली भरती है अपना सुख दुख भूल सभी, प्रेम सभी से करती है मेरी बेटी आदर्श है मेरी, जो घर खुशियों से भरती है सारे घर का काम करें, और उतनी ही पढ़ती है ईश्वर का वरदान है बेटी, जो सारे जग की जननी है मेरी पत्नी आदर्श है मेरी, गृहस्ती का बोझ उठाती है आजन्म सभी की सेवा में, जीवन सदा लगाती है मां बहन बेटी इस जग में, ईश्वर का वरदान है आओ करें सब नमन इन्हें, ये दुनिया की शान हैं सुरेश कुमार चतुर्वेदी ©Suresh Kumar Chaturvedi"

A Woman मेरी आदर्श

मेरी मां आदर्श हे मेरी, जो कष्टों में भी गाती है 
जीवन के गीत सुनाती है 
मां अपनी संतान के खातिर, अपना सर्वस्व लुटाती है त्याग तपस्या की मूरत, मां सूरत है भगवान की 
दुनिया में सबसे अच्छी है, मां ही सकल जंहान की 
मेरी आदर्श बहन है मेरी, आशीषों से झोली भरती है अपना सुख दुख भूल सभी, प्रेम सभी से करती है 
मेरी बेटी आदर्श है मेरी, जो घर खुशियों से भरती है सारे घर का काम करें, और उतनी ही पढ़ती है 
ईश्वर का वरदान है बेटी, जो सारे जग की जननी है मेरी पत्नी आदर्श है मेरी, गृहस्ती का बोझ उठाती है आजन्म सभी की सेवा में, जीवन सदा लगाती है 
मां बहन बेटी इस जग में, ईश्वर का वरदान है 
आओ करें सब नमन इन्हें,  ये दुनिया की शान हैं 

सुरेश कुमार चतुर्वेदी

©Suresh Kumar Chaturvedi

#NaariDiwas

22 Love
2 Share

""

"A Woman always hide their emotion, express, her embition, tear,and lots of thing... but they never tell anyone. because they respect everyone.. ©benaam zindagi"

A Woman always hide their emotion,
express, her embition,
tear,and lots of thing...
but they never tell anyone.
because they respect everyone..

©benaam zindagi

it's true...
#NaariDiwas

5 Love

""

"A Woman सातों दिन और आठों याम, लेतीं नहीं कभी विश्राम सबसे पहले उठ जातीं हैं, सबको चाय पिलातीं हैं बच्चों को तैयार करें, लंच और बॉटल बैग भरें जल्दी से स्कूल भेज कर, किचन में फिर घुस जातीं हैं घर के लोगों की पसंद का, खाना रोज बनातीं हैं साफ सफाई कपड़े लत्ते, सारा घर चमकातीं हैं इतना सब करधर के घर का, काम पर अपने जातीं हैं ना खुद की कोई इच्छाएं, खाने का भी ध्यान नहीं परिवार के पालन पोषण में, खुद का है कोई भान नहीं शाम ढले घर आ जाती हैं, चूल्हा चौका सुलगातीं हैं बच्चों का फिर होमवर्क, नखरे घर के रोज उठाती हैं ताने सुन कर भी गाती है । अगणित कष्ट सह जीवन में, हंसती और हंसातीं हैं चैन की नींद सुला सबको, बाद में वह सो पातीं हैं छुट्टी होती है सबकी, उनका काम और बढ़ जाता है जब तक हाथ पैर चलते हैं, कामों से उनका नाता है इस समाज की धुरी हैं वह, घर, घर उनसे ही होता है कितना स्वार्थी है समाज, अत्याचार उन्हीं पर होता है कब पहचानेगा समाज, उनके त्याग और बलिदान को नमन करूं हे मातृशक्ति, नहीं शब्द सम्मान को सुरेश कुमार चतुर्वेदी ©Suresh Kumar Chaturvedi"

A Woman 

सातों दिन और आठों याम, लेतीं नहीं कभी विश्राम 
सबसे पहले उठ जातीं हैं, सबको चाय पिलातीं हैं 
बच्चों को तैयार करें, लंच और बॉटल बैग भरें 
जल्दी से स्कूल भेज कर, किचन में फिर घुस जातीं हैं 
घर के लोगों की पसंद का, खाना रोज बनातीं हैं 
साफ सफाई कपड़े लत्ते, सारा घर चमकातीं हैं 
इतना सब करधर के घर का, काम पर अपने जातीं हैं 
ना खुद की कोई इच्छाएं, खाने का भी ध्यान नहीं 
परिवार के पालन पोषण में, खुद का है कोई भान नहीं 
शाम ढले घर आ जाती हैं, चूल्हा चौका सुलगातीं हैं 
बच्चों का फिर होमवर्क, नखरे घर के रोज उठाती हैं 
ताने सुन कर भी गाती है ।
अगणित कष्ट सह जीवन में, हंसती और हंसातीं हैं 
चैन की नींद सुला सबको, बाद में वह सो पातीं हैं 
छुट्टी होती है सबकी, उनका काम और बढ़ जाता है 
जब तक हाथ पैर चलते हैं, कामों से उनका नाता है 
इस समाज की धुरी हैं वह, घर, घर उनसे ही होता है 
कितना स्वार्थी है समाज, अत्याचार उन्हीं पर होता है 
कब पहचानेगा  समाज, उनके त्याग और बलिदान को 
नमन करूं हे मातृशक्ति, नहीं शब्द सम्मान को 

सुरेश कुमार चतुर्वेदी

©Suresh Kumar Chaturvedi

#NaariDiwas

18 Love
3 Share