Nojoto: Largest Storytelling Platform

Best mikyupikyu Shayari, Status, Quotes, Stories

Find the Best mikyupikyu Shayari, Status, Quotes from top creators only on Nojoto App. Also find trending photos & videos about mike tyson quotes, mika singh, mika singh hawa hawa, mika singh aaj ki party, mike ross quotes,

  • 1 Followers
  • 351 Stories
    PopularLatestVideo

Mo k sh K an

#mokshkan #mikyupikyu #main_raz_raz_hizr_manavaan मैं_ऱज़_ऱज़_हिज़्र_मनावाँ  #Hindi #ज़िन्दगी

read more
तेरी प्रीत के रंग रंगा में उड़ता फिरूँ गुलाल 
महक उठा कस्तूरी बन कर थिरकूँ तेरी ताल 

सबा धूप की धानी ओढूं रंग इतर का आए 
खुद में देखूँ तुझको जैसे खड़ा ख़ुदा मुस्काए
रोम रोम में नूर थिरकता ऐसा तेरा जमाल
तेरी प्रीत के रंग रंगा में उड़ता फिरूँ गुलाल 

इश्क़ इबादत ज़रदोज़ी सा काढ़ा रुह के तार 
बूटे गुँचे खिले पश्म से कलफ़ हुआ हर बार 
करघा राँझा बन कर घूमे ऐसा तेरा कमाल 
तेरी प्रीत के रंग रंगा में उड़ता फिरूँ गुलाल 

मैं रहट का साज सुहाना धुन में तेरी चूर 
और वक़्त के बैल जुते हैं बन कर मेरा फ़ितूर
लम्हे रोज ढले सदियों से, पल में बीता साल
तेरी प्रीत के रंग रंगा में उड़ता फिरूँ गुलाल 

मैं ऱज़ ऱज़ हिज़्र मनवाँ @ गुलाल

©Mo k sh K an #mokshkan 
#mikyupikyu 
#main_raz_raz_hizr_manavaan 
#मैं_ऱज़_ऱज़_हिज़्र_मनावाँ  
#Nojoto 
#Hindi

Mo k sh K an

जीना चाहता हूँ 
मगर
जिंदगी फ़ुर्सत नहीं देती 
मरना भी गवारा है 
मगर 
मौत इजाज़त नहीं देती 
बिछ गया हूँ सड़क सा 
अपने पैरों के नीचे
औऱ ख़ुद से फ़ासले 
बढ़ते ही जा रहे हैं 

मगर @ अब खमोशी को कहने दो

©Mo k sh K an #mikyupikyu 
#mokshkan 
#अब_खामोशी_को_कहने_दो 
#Nojoto 
#Hindi

Mo k sh K an

#main_raz_raz_hizr_manavaan मैं_ऱज़_ऱज़_हिज़्र_मनावाँ  #mokshkan #mikyupikyu #Hindi #ज़िन्दगी

read more
वो रातें 
रेजगारी सी 
मेरे ख़्वाब में खनकती हैं 
और मुझे सोने नहीं देती 

सिरहाने पर 
तेरा ज़िक्र 
मैंने उँगलियों से लिखा है 
और तकिए पर कई रात है  
जो सहर नहीं होती 

वो लिहाफ तेरी ख़ुश्बू से मोगरा हुआ है 
वो सलवटें तेरी तपिश से मोम हो गई है 
और मैं गुमशुदा सा तुझको तलाशता हूँ 
ना अपना पता मिलता है
ना तेरी ख़बर आती है 

वो रातें 
रेजगारी सी 
मेरे ख़्वाब में खनकती हैं 
और मुझे सोने नहीं देती 

रातें रेज़गारी सी @ मैं ऱज़ ऱज़ हिज़्र मनावाँ

©Mo k sh K an #main_raz_raz_hizr_manavaan 
#मैं_ऱज़_ऱज़_हिज़्र_मनावाँ  
#mokshkan 
#mikyupikyu 
#Nojoto 
#Hindi

Mo k sh K an

#mokshkan #mikyupikyu #main_raz_raz_hizr_manavaan मैं_ऱज़_ऱज़_हिज़्र_मनावाँ  #Hindi #ज़िन्दगी

read more
बस ख़लिश ही रह गई हैं 
मेरे वजूद में 
जब याद सरकती है 
तो दम घुटता है 

कभी सोचा नहीं था, मैंने
कि वो लोखंडवाला बैक रोड की वो चौड़ी सडक़ 
इतनी संकरी हो सकती है 
कि अकेले भी गुजरता हूँ जो जज़्बात छिल जाते हैं 

वो समंदर, वो सहील, वो उफनती लहरें 
कभी तकाज़ा भी नहीं करते
और छोड़ जाते हैं मेरे सीने पर 
वो रेत 
जो तेरे पैरों में चस्पा हुआ करती थी 

सब कुछ बदल गया है 
भाटे के क़ुतुब जैसा
बस ख़लिश ही रह गई हैं 
मेरे वजूद में 
जब याद सरकती है 
तो दम घुटता है 

मैं ऱज़ ऱज़ हिज़्र मनवाँ @ जब याद सरकती है

©Mo k sh K an #mokshkan 
#mikyupikyu 
#main_raz_raz_hizr_manavaan 
#मैं_ऱज़_ऱज़_हिज़्र_मनावाँ  
#Nojoto 
#Hindi

Mo k sh K an

चेहरे पर उतर आए हैं
वक़्त के आबशार
बालों की सफेदी कहती है
कि शाम ढल रही है 

ना रंग, ना रोगन,ना इत्र की ख़ुश्बू 
ना ज़रदोज़ी कोई
ना मलमली लिहाफ 
सिकुड़ गई है 
हसरतें सारी 
बारिशों में भीग कर 
कलफ़ पर ठहरी पशेमानी कहती है
कि शाम ढल रही है 

रात की रसीद 
ले कर के फिर रहा हूँ
ना जाने कब आँखों को अब सूद चुकाना हो 
नींदों की सुलह हो अब ख़्वाबों से कुछ ऎसी
कि रात ना छूटे
फिर ना सहर हो.... 

अब खमोशी को कहने दो @ उम्र ..दराज़

©Mo k sh K an #mokshkan 
#mikyupikyu 
#ab_khamoshi_ko_kehne_do 
#अब_खामोशी_को_कहने_दो 
#Nojoto 
#Hindi

Mo k sh K an

#mokshkan #mikyupikyu #main_raz_raz_hizr_manavaan #उदासियाँ_the_journey मैं_ऱज़_ऱज़_हिज़्र_मनावाँ  #Hindi #ज़िन्दगी

read more
सुबह सवेरे जाग के जब भी आँख ये मैंने खोली है
अज़ानों की सरगम बन कर तू ही मुझ से बोली है 

भक्ति तू, ममता तू मेरी, तू मुर्शीद ,तू पीर है 
तू ही नदिया, तू ही सागर ,तू सहील, तू तीर है 
दिया भी तू, बाती भी तू, तू चंदन, तू रोली है 
सुबह सवेरे जाग के जब भी आँख ये मैंने खोली है 

तू रहबर है, राह भी तू है, तुझ तक चल कर जाना हैं 
खो कर शायद खुद को तुझ में ख़ुदा को मैंने पाना है 
खुली हथेली मन्नत की तू, भरे दुआ जो झोली है 
सुबह सवेरे जाग के जब भी आँख ये मैंने खोली है 

सब फ़ानी है पानी है, बहना है बह जाना है 
राख़ हुआ जब मैं मुझमें बस तू ही रह जाना है 
ना जाने किसने यूँ मुझ में तू साँसों सी घोली है 
सुबह सवेरे जाग के जब भी आँख ये मैंने खोली है 

सुबह सवेरे जाग के जब भी आँख ये मैंने खोली है
अज़ानों की सरगम बन कर तू ही मुझ से बोली है

उदासियाँ 3 
मैं ऱज़ ऱज़ हिज़्र मनावाँ
@ वज़द

©Mo k sh K an #mokshkan 
#mikyupikyu 
#main_raz_raz_hizr_manavaan 
#उदासियाँ_the_journey 
#मैं_ऱज़_ऱज़_हिज़्र_मनावाँ  
#Nojoto 
#Hindi
loader
Home
Explore
Events
Notification
Profile