tags

Best Anonymous Shayari, Status, Quotes, Stories, Poem

Find the Best Anonymous Shayari, Status, Quotes from top creators only on Nojoto App. Also find trending photos & videos.

  • 33 Followers
  • 70 Stories
  • Popular Stories
  • Latest Stories

"Nhi maloom hme ki pyaar kya hota h..bs itna pata hai ki tum mere liye sabkuch ho.."

Nhi maloom hme ki pyaar kya hota h..bs itna pata hai ki tum mere liye sabkuch ho..

#nojoto
#everything
#Love
#Anonymous
#feelings @Rashmi Tripathi @Dikshu singh @Write_The_Feelings

21 Love

"khud ko pdhne ki kosis krta hun, phir chhod diya karta hoon, ek din ka page har din mood diya krta hoon, purani kitabo ko jo.....tha mein vo raha Nahi, Jo hoon mein vo kisi ko pata nahi #anonymous"

khud ko pdhne ki kosis krta hun,
phir chhod diya karta hoon,
ek din ka page har din mood diya krta hoon,
purani kitabo ko jo.....tha mein vo raha Nahi, Jo hoon mein vo kisi ko pata nahi

#anonymous

#Srivansh_Sharma #mydiary

20 Love
2 Share

"तेरे साथ जिंदगी बिताने का वादा था, और तूने अकेले चलना सीखा पर मै तो तेरे बिना अाधा था।"

तेरे साथ जिंदगी बिताने का वादा था,
और तूने अकेले  चलना सीखा

पर मै तो तेरे बिना अाधा था।

#Anonymous#heart_thief

22 Love

"छत कहा है और कहा आसमान है? जहां तक नजर न पोहचे वहा तक मकान है सुना है ये शेहेर सपने बेचनेकी दुकान है तभी इंसान रेंग रहे और तामीर मे उड़ान है लोग कहते है जंगल इसे, लगता ये हर खिलाडी का मकान है तभी तो यहां का हर वासी कोई पुराना मेहमान है किसी के आँखों में सपने है यहाँ तो किसी के जेब में आराम है किसी की बंजर है ज़मीन, तो किसी का गगन वीरान है हर हालत में दौड़ता ये शहर, मंजिलों से अनजान है कभी खून में तो कभी पानी में लतपथ, फिर भी हर चेहरे पर मुस्कान क्या क्या सिखु इस शहर से, तमाम मुश्किलें और कितनेही तूफ़ान है गर्दिश में ज़िन्दगी हर पल फिर भी, ये शहर किसीकी जान तो जहाँ है"

छत कहा है और कहा आसमान है? 
जहां तक नजर न पोहचे वहा तक मकान है
सुना है ये शेहेर सपने बेचनेकी दुकान है
तभी इंसान रेंग रहे और तामीर मे उड़ान है
लोग कहते है जंगल इसे, 
लगता ये हर खिलाडी का मकान है
तभी तो यहां का हर वासी कोई पुराना मेहमान है
किसी के आँखों में सपने है यहाँ तो किसी के जेब में आराम है
किसी की बंजर है ज़मीन, तो किसी का गगन वीरान है
हर हालत में दौड़ता ये शहर, मंजिलों से अनजान है
कभी खून में तो कभी पानी में लतपथ, फिर भी हर चेहरे पर मुस्कान
क्या क्या सिखु इस शहर से, तमाम मुश्किलें और कितनेही तूफ़ान है
गर्दिश में ज़िन्दगी हर पल फिर भी, ये शहर किसीकी जान तो जहाँ है

#PerfectCity #City #Mumbai #nojoto #Anonymous writer
quite huge 😅

22 Love

"कौन हूँ मैं? आईने से अक्सर सवाल करता हूँ मैं। खुद की शख्शियत आज देख, खुद से मुकर जाया करता हूँ मैं। एक दौर रहा जब बचपन मासूम था। एक इश्क में आज तक खुद को तबाह करता हूँ मै।। कौन हूँ मैं? आईने से अक्सर सवाल करता हूँ मैं। इश्क हुआ क्या खूब हुआ। आज तक टूटकर लिखता हूँ मैं।। अफ़सोस रहा तो इस बात का, मांगा था सुकून,पर.... अब पहले से ज्यादा महसूस करता हूँ मैं।। ©© Mulahiza farmayiyegaa... एक दौर रहा जब सुबह की नींद खुलती थी अज़ान से।। देखो ज़रा? इन मज़हबी पहरेदारों को!! कानों तक अज़ान अब पहुंचती ही नहीं।"

कौन हूँ मैं?
आईने से अक्सर सवाल करता हूँ मैं।
खुद की शख्शियत आज देख,
खुद से मुकर जाया करता हूँ मैं।
एक दौर रहा जब बचपन मासूम था।
एक इश्क में आज तक खुद को तबाह करता हूँ मै।।

कौन हूँ मैं?
आईने से अक्सर सवाल करता हूँ मैं।
इश्क हुआ क्या खूब हुआ।
आज तक टूटकर लिखता हूँ मैं।।
अफ़सोस रहा तो इस बात का,
मांगा था सुकून,पर....
अब पहले से ज्यादा महसूस करता हूँ मैं।।
©©
Mulahiza farmayiyegaa...
एक दौर रहा जब सुबह की नींद खुलती थी अज़ान से।।
देखो ज़रा? इन मज़हबी पहरेदारों को!!
कानों तक अज़ान अब पहुंचती ही नहीं।

How amazing it is.
People read what we write, they appreciate what we write.
But they never try to understand that their is always a story in every poetry. Just you have to feel it.
...
aur aaj Jo gaur farmaya hai...
ye unke liye hai Jo bhut hi serious mudde pe paresaan h ki reel lyf me kabir singh ne ldki ko thappd kyu mara. But kisiko ye tk yaad ni ki ab hmare sehre me subah ki azaan sunayi hi ni deti.

#Love

15 Love
1 Share