tags

Best firstmeeting Shayari, Status, Quotes, Stories, Poem

Find the Best firstmeeting Shayari, Status, Quotes from top creators only on Nojoto App. Also find trending photos & videos.

  • 67 Followers
  • 112 Stories
  • Popular Stories
  • Latest Stories

इज़हार....

#aapanbaat #Love #proposal #signs #First_Meeting #firstmeeting #ishq @Satyam Purohit @Tabita thapa 🤗🤗💓 @Secret _poet(aakas_sharmaa) @AS Sabreen @Suman Zaniyan Sanju Prajapati 'Meethi' @chintaman dubey @Priya Rajput (Beauty) @Anshu Chaurasiya

17 Love
425 Views
2 Share

#firstmeeting#Love#Memories.📙🖍️🎸💕

14 Love
170 Views

"ठहर ज़रा ऐ रात तू...निहार लूँ मैं चाँदनी के कल ये रात हो न हो या कल रहें हमीं कहींं ठहर ज़रा दीदार को है वक़्त की ज़रा कमीं के कल को वो रहें ना वो या कल को हम हमीं नहीं"

ठहर ज़रा ऐ रात तू...निहार लूँ मैं चाँदनी
के कल ये रात हो न हो या कल रहें हमीं कहींं
ठहर ज़रा दीदार को है वक़्त की ज़रा कमीं
 के कल को वो रहें ना वो या कल को हम हमीं नहीं

ठहर ज़रा ऐ रात तू....

#Moon #firstmeeting #aapanbaat #magic #zindagiejahan #nojotohindi #nojotopoetry #NojotoTrending

@Hariom Rana @Tabita thapa 🤗🤗💓 @HOLOCAUST @AS Sabreen @mohd shahbaj

24 Love
1 Share

"jab dekha tumko pehli baar to dil ne kiya ye pukar ho jao agar tum saath mere to zindagi ye ban jaaye gulzaar"

jab dekha tumko pehli baar 
to dil ne kiya ye pukar 
ho jao agar tum saath mere 
to zindagi ye ban jaaye gulzaar

♥️🌹💐 #firstmeeting #Love #PehliNajar #Relationship

11 Love

"काफी उल्टा सीधा उसको सुनाने के बाद अब भी मेरा मन शांत नहीं हुआ था।कुछ दिन बीत गए।अब हम थोड़ा संभल चुके थे।या यूं कहे कि अब हमे ये अहसास हो चुका था कि हमने शायद उससे उम्मीद ही ज्यादा पाल रखी थी।वो तो हमेशा से ही वैसा था।बस हमने ही कभी शायद उसे समझने की कोशिश नहीं की।जो भी हो मै उन सारी चीज़ों से काफी दूर आए चुकी थी।एक दिन वो मुझे अपने बच्चे के साथ दिखा।उस वक़्त मुझे बहुत गुस्सा आया और जितना मैंने मुझे समझाया था वो सब धरा का धरा रह गया।हमने उसे कॉमेंट करते हुए कहा लोगो को धोखा देना ही रास आता है।तुम आज फिर मिल गए ।आज का दिन ही खराब है हमारा उधर जॉब चली गई और इधर तुम दिख गए। उसने कुछ नहीं कहा लेकिन उस बच्चे ने मेरी तरफ देखा और कहा आप मेरे घर में रहा करिए और पापा को ऐसे ही डांटा करिए।मैंने अपना आपा खो दिया और उस बच्चे पे चिलाते हुए कहा अपनी मम्मी से कहना कि पापा को डांटे।उस बच्चे ने रोते हुए कहा मेरी मम्मी नहीं है । इतने में सार्थक ने मुझे एक तमाचा मारा और कहा सर्म आनी चाहिए तुम्हें मैंने कभी तुम्हे कुछ नहीं कहा पर आज तुमने मेरे बच्चे को रुला दिया। और उस तमाचे ने मेरा सारा गुस्सा ठंडा कर दिया।मुझे अब सार्थक से और ज्यादा प्यार हो चुका था।मैंने हमेशा उसे एक गलत नजरिए से देखा पर वो सही था।आंखों में पश्चाताप के अंशु थे हमारे।वो जाने लगा तो बड़ी हिम्मत करके मैंने उसे कहा रुख जाओ मैं इतनी भी बुरी नहीं हूं ।मुझे माफ़ करो।मै तुम्हारे साथ रहना चाहती हूं ।मै तुम्हारी होना चाहती हूं। और हर कहानी की तरह हमारी कहानी का एक happy ending हुई। आज सार्थक, मैं और उज्ज्वल प्यार से अपने एक छोटे से आशियाने में खुश है।"

काफी उल्टा सीधा उसको सुनाने  के बाद अब भी मेरा मन शांत नहीं हुआ था।कुछ दिन बीत गए।अब हम थोड़ा संभल चुके थे।या यूं कहे कि अब हमे ये अहसास हो चुका था कि हमने शायद उससे उम्मीद ही ज्यादा पाल रखी थी।वो तो हमेशा से ही वैसा था।बस हमने ही कभी शायद उसे समझने की कोशिश नहीं की।जो भी हो मै उन सारी चीज़ों से काफी दूर आए चुकी थी।एक दिन वो मुझे अपने बच्चे के साथ दिखा।उस वक़्त मुझे बहुत गुस्सा आया और जितना मैंने मुझे समझाया था वो सब धरा का धरा रह गया।हमने उसे कॉमेंट करते हुए कहा लोगो को धोखा देना ही रास आता है।तुम आज फिर मिल गए ।आज का दिन ही खराब है हमारा उधर जॉब चली गई और इधर तुम दिख गए। उसने कुछ नहीं कहा लेकिन उस बच्चे ने मेरी तरफ देखा और कहा आप मेरे घर में रहा करिए और पापा को ऐसे ही डांटा करिए।मैंने अपना आपा खो दिया और उस बच्चे पे चिलाते हुए कहा अपनी मम्मी से कहना कि पापा को डांटे।उस बच्चे ने रोते हुए कहा मेरी मम्मी नहीं है । इतने में सार्थक ने मुझे एक तमाचा मारा  और कहा सर्म आनी चाहिए तुम्हें मैंने कभी तुम्हे कुछ नहीं कहा पर आज तुमने मेरे बच्चे को रुला दिया।
और उस तमाचे ने मेरा सारा गुस्सा ठंडा कर दिया।मुझे अब सार्थक से और ज्यादा प्यार हो चुका था।मैंने हमेशा उसे एक गलत नजरिए से देखा पर वो सही था।आंखों में पश्चाताप के अंशु थे हमारे।वो जाने लगा तो बड़ी हिम्मत करके मैंने उसे कहा रुख जाओ मैं इतनी भी बुरी नहीं हूं ।मुझे माफ़ करो।मै तुम्हारे साथ रहना चाहती हूं ।मै तुम्हारी होना चाहती हूं।
और हर कहानी की तरह हमारी कहानी का एक happy ending हुई।
आज सार्थक, मैं और उज्ज्वल प्यार से अपने एक छोटे से आशियाने में खुश है।

#Pehli_Mulakkat काफी उल्टा सीधा उसको सुनाने के बाद अब भी मेरा मन शांत नहीं हुआ था।कुछ दिन बीत गए।अब हम थोड़ा संभल चुके थे।या यूं कहे कि अब हमे ये अहसास हो चुका था कि हमने शायद उससे उम्मीद ही ज्यादा पाल रखी थी।वो तो हमेशा से ही वैसा था।बस हमने ही कभी शायद उसे समझने की कोशिश नहीं की।जो भी हो मै उन सारी चीज़ों से काफी दूर आए चुकी थी।एक दिन वो मुझे अपने बच्चे के साथ दिखा।उस वक़्त मुझे बहुत गुस्सा आया और जितना मैंने मुझे समझाया था वो सब धरा का धरा रह गया।हमने उसे कॉमेंट करते हुए कहा लोगो को धोखा देन

77 Love