Nojoto: Largest Storytelling Platform

Best Dussehra2020 Shayari, Status, Quotes, Stories

Find the Best Dussehra2020 Shayari, Status, Quotes from top creators only on Nojoto App. Also find trending photos & videos about ko mall dusseldorf, happy dussehra quotes in hindi, dussehra wishes in hindi, dussehra quotes in hindi, dussahas meaning in hindi,

  • 905 Followers
  • 979 Stories

इक _अल्फाज़@airs

कृतान्त अनन्त नीरज...

Richa Dhar

#Dussehra2020 कलियुग #कविता

read more
" हो गया युग परिवर्तन 
मन में है बस यही उलझन

कोई किसी को समझता नहीं 
अपना अपने को पहचानता नहीं....
हर तरफ है ईर्ष्या और द्वेष 
दुःख मुखौटा लगाए है, बनाए है सुख का भेष

देख के रोता है आज आसमां 
सिसकती है धरती और सिसकता है ये जहाँ
हर तरफ़ है घोर निराशा 
सबके अन्दर है बस मृत आशा

देखो भगवन कैसा ये युग है
आपने ही तो बनाया ये कलयुग है
अगर मैं मर जाऊं तो मुझे दोबारा जन्म मत देना 
मुझे अपने पास ही रखना, मुझे अब ये संसार न देना

प्यार का अभाव नहीं है, 
पर रिश्तों का अहसास नहीं है।
बन्द कर दो अब तो खेल अपना 
मत दिखाओ मुझे अब कोई भी सपना

हर सपना मेरा टूटा है 
हर बार कोई अपना छूटा है 
बस एक बार आप चले आओ 
छोड़ दूँगी ये संसार मुझे अपने संसार ले जाओ

©Richa Dhar #Dussehra2020 कलियुग

Rangmanch Bharat

परित्राणाय साधूनाम्

पाप अंध-तमस अधर्म अहंकारी के ज़ेवर हैं,
किसी से हार न मानना इस किस्म के तेवर हैं,
हज़ारों अपराध किये और सैकड़ों लाशें बिछाई,
तब भी सुध पापचारी को बिल्कुल भी नहीं आयी,
पर पत्नि को हरा नारी का बेझिझक अपमान किया,
अंजाम का ना सोचा क्रूरता का पैगाम दिया,
अविनाशी विष्णुरूप से भी ना पल भर डर ही लगा,
पूरे कुल का नाश होते देख भी अभिमानी का सर ना ही झुका,
फिर हुआ भीषण संग्राम जिसमें रावण का वध होना ही था,
धर्म विजय कर पाप समाप्त सत्य का कृत्य होना ही था,
जब जब धरती पर पापाचार होगा और प्राणियों को तरना होगा,
तब तब मर्यादा के राम को मनुष्य रूप धरना होगा,
तब तब मर्यादा के राम को मनुष्य रूप धरना होगा ।

©Rangmanch Bharat #Nojoto #nojotokavita #nojoto2023 #nojitohindi #rangmanchbharat #hindi_poetry #hindi_quotes 

#Dussehra2020

Mayank Jain

Radhe Krishna

Shailendra Anand

रचना दिनांक
८,,८,,२०२३
वार मंगलवार
समय्् शाम पांच बजे
्््शीर्षक ््
मध्यकालीन भारतीय इतिहास में प्रेम
वह निश्चित शब्दों की़ व्यूह रचना,,
वो चाहे चंदबरदाई हो,,
या फिर गृहस्थ आश्रम में समाधिस्थ रत्नावली 
जो कटाक्ष शब्द भेदी बाण ने क्या जीवन को
भेदा है्््
दो समकालीन विदूषी शास्त्रार्थ अध्यात्म जगत में,,
अभ्यस्त ने प्रृथ्वीराजचौहान और मौ्् गौरी का प्रसंग है।।
ठीक विपरीत बुद्धि में आंखें डालकर अच्छे ख्यालात से
रत्नावली ने अपने पति हुलसी पूत्र तुलसी को शब्द कटाक्ष ने गोस्वामी तुलसीदास बना दिया।।

्््भावचित्र शब्द पूष्प वाटिका
हुलसी पूत्र तुलसी में,,काया रत्न विभोर।
प्रेम रत्न की रत्नावली,,
मृग कस्तूरी में आंनद।।
भाव विभोर प्रेम रस में,,
निश्चल प्रेम मेघ जल सरयू में।।
मीन भूजंग निशा रजनीचर में।।
प्रेम शिखा अमृत तुल्य रस में,,
हांड मांस की प्रत्यन्चा से,,
वो शब्द भेदी बाण बेध दिया।।
रत्नावली के वो प्रेमाआंनद ने,,
आत्म विभोर वो  दर्शन तुलसी।।
ज्ञान कोटी परमं दास प्रभु के राम रस में।।
््््
््कवि शैलेंद्र आनंद

८,, अगस्त २०२३

©Shailendra Anand #Dussehra2020

Nazar Biswas

विजय दशमी की सभी को हार्दिक शुभकामनाएं 🙏🏻 poetry #poem shayari life #Hope #Dussehra2020 #nazarbiswas

read more
कितना भी भयावह चाहे वो काल है,
सत्य रक्त से बना बड़ा विकराल है।

कपटी मंशा तेरी बड़ी निराधार है,
गूंजे जो विश्व में वो सत्य की हुंकार है।

अहंकारी रावण भी ढला, तू तो इंसान है,
कष्ट निवारे जो जग के वो प्रभू श्री राम हैं 🙏🏻 विजय दशमी की सभी को हार्दिक शुभकामनाएं 🙏🏻


#poetry
#poem
#shayari
#life
#hope

Rajbir Khorda

फिर जन्म लो इस धरा अवतार बनकर राम जी
फिर से बुराई छा रही अंधकार बनकर राम जी

क्रोध,तृष्णा, लोभ, माया,ईर्ष्या, मद, कामना
रोग रावण दो मिटा उपचार बनकर राम जी 

सीता मैया वाटिका में है अकेली आज भी
आया है लंकेश फिर अय्यार बनकर राम जी

जल रहा है पीड़ा से मन दग्ध तन संताप से
बरसो तपती देही पे जलधार बनकर राम जी

खंड विखंडित हो रही है कंठ माल्य धर्म की
सारे मनके जोड़ दो तुम तार बनकर राम जी

स्नेह शबरी का अधूरा श्रीपति हरी आप बिन
'राज' सिर पे हो सदा सरकार बनकर राम जी

राजबीर खोरड़ा
05/10/2022

©Rajbir Khorda #Dussehra2020

kitabe_kavita_ki

loader
Home
Explore
Events
Notification
Profile