Kusum Sharma

Kusum Sharma

सर्वधर्मान्परित्यज्य मामेकं शरणं व्रज| अहं त्वा सर्वपापेभ्यो मोक्षयिष्यामि मा शुच:|| अर्थात सम्पूर्ण धर्मों का आश्रय छोड़कर तू केवल मेरी शरण में आ जा। मैं तुझे सम्पूर्ण पापों से मुक्त कर दूंगा अंतर्यामी रूप से परमात्मा ही गुरु हैं और हम जीव रूप से शिष्य हैं ||श्रीमद्भगवद्गीता अध्याय१८-श्लोक 66 || सारी सृष्टि बनाई उसी का एक हिस्सा हूँ। मेरी लेखनी ही मेरी पहचान है Married सभी रचनायें स्वरचित हैं 🙇

  • Popular Stories
  • Latest Stories

Selfwritten
#मैया #Vedio #bhajan #nojoto #writersofnojoto #lyrics #SelfWritten #Poetry #hindibhajan #Singar #kala #kavishala

125 Love
4069 Views

"ज़िंदगी में सबसे ज्यादा संघर्ष अपने आप से ही होता है"

ज़िंदगी में सबसे ज्यादा संघर्ष
अपने आप से ही होता है

#संघर्ष #ज़िंदगी #nojoto #writersofnojoto #writers #thought #Quote #Life #Lifequote #Hindi #Hindiwriters

124 Love
4 Share

"दिल की धड़कने बढ़ जाती हैं जब तुझे अपनी ओर देखते पाती हूँ"

दिल की धड़कने बढ़ जाती हैं जब तुझे अपनी ओर देखते पाती हूँ

#Hindi #writersofnojoto #writers #shayri #poem #Poetry

119 Love

"ये दिल ❤ तेरे इश्क़ का एक सिक्का है जिसके दोनों तरफ मोहब्बत ने दर्द से तेरा नाम उकेरा है"

ये दिल ❤ तेरे इश्क़ का
एक सिक्का है
जिसके दोनों तरफ मोहब्बत ने
दर्द से तेरा नाम उकेरा है

#nojoto #writersofnojoto #writersofindi #shayri #writers #Poetry #poem

114 Love
3 Share

#शरदपूर्णिमा

हे कृष्ण चले आओ हे श्याम चले आओ
ह्रदय की पीड़ा को कुछ तो कम करते जाओ

जिस राह से तुम गये उस राह को निहारती हैं
अब तक दो प्यासी अँखियाँ
देकर दर्शन इनको कुछ तो प्यास बुझा जाओ

104 Love
6094 Views
3 Share