Nojoto: Largest Storytelling Platform

Best Manaswin_Manu Shayari, Status, Quotes, Stories

Find the Best Manaswin_Manu Shayari, Status, Quotes from top creators only on Nojoto App. Also find trending photos & videos about manu pata hai tu fan, manu pata hai, dil mera tod diya usne bura kyu manu, dil tod diya usne bura kyu manu, dil ki jo manu to rab ruth jaye,

  • 1 Followers
  • 139 Stories

Manaswin Manu

Manaswin Manu

Manaswin Manu

जब आर्यमा गुम हो निशा में
हो तमस जब हर दिशा में
रत्नाकर जब रो रहा हो
भाग्य मेरा सो रहा हो
हर तरफ जब हो उदासी
देह घायल, नेह प्यासी
कहीं भी कोई आश ना हो
किसी पे जब विश्वाश ना हो
तब भी तुम्हारा साथ होगा
हाथों मे तुम्हारा हाथ होगा
और धड़कन झूम कर के
मुझसे यह कहती रहेगी
ये वही है -- ये वही है
ये ही है सदभाग्य तेरा
ये है मन का मीत तेरा
ये सनातन प्रीत तेरा
ये हृदय का हर्ष तेरा
ये ही है उत्कर्ष तेरा
ये धड़कनों की सतसई है
जो कमी थी, वो यही है
है जो ये तो सब सही है
ये वही है -- ये वही है

©Manaswin Manu #Manaswin_Manu 
#Sristy 
#sristysinghvarid

Manaswin Manu

युग के आरंभ से अब तक
किसी मनुष्य के हृदय में उत्पन्न
प्रेम की सबसे गहरी और सच्ची भावना
जैसी रही होगी
तुम्हारे लिए मेरा प्यार वैसा ही है

तुम्हारी सुंदर निश्चल आँखें
और सीधी सच्ची बातें
किसी पेशेवर झूठे को भी
किसी मासूम बच्चे सा निर्मल कर देती हैं
तो कहो मैं कैसे अपवाद रहता ?

तुम्हारा प्यार, इनकार, गुस्सा
सबकुछ स्वीकार है मुझे
समय के अंत तक तुम्हारी प्रतीक्षा भी स्वीकार है
किन्तु फिर भी एक उद्विग्नता है
कि हम शीघ्र-अतिशीघ्र साथ आ जाएं
ताकि इस छोटे - नश्वर जीवन मे
तुम्हारे साथ थोड़ा अधिक समय बिता सकूँ

©Manaswin Manu #100Loveletters
#Manaswin_Manu

Manaswin Manu

मैंने प्रेम में प्रतीक्षा की है
और प्रतीक्षा के हर छन में मैंने
तुमसे उतना प्यार किया है
जितना किया जाता है एक पूरे युग में

मेरी सारी समझदारी
इस एक प्रश्न के आगे हार गई थी
कि बेहतर क्या है 
सृष्टि में पाने योग्य जो कुछ है
उन सबको पाना 
या बिना किसी आश्वाशन के
केवल तुम्हारी प्रतीक्षा करना 
और बिना उत्तर जाने भी
मैंने तुम्हारी प्रतीक्षा को चुना

©Manaswin Manu #100loveletters
#letter1
#Manaswin_Manu

Manaswin Manu

Is anything around me real ?
Do anything exist ?
What if I reject all existence?
The question comes "who is rejecting ?"
My thoughts are rejecting.
And "Who is thinking ?"
Its me.
So if I think, I am, I exit. (*Rene descartes*)
I exist atleast as a thinking being.
So my existence is certain.
And existence of anything other then me,
This sun, the moon, the earth,
seasons, day & night, rivers and mountains,
their existence is still questionable.
But for me they exist.
Because I can experience them.
So if for me, my experience is the basis
of existence of this universe.
Then anything I say About this universe,
Should be an absolute subjective truth.

And all my thoughts,
Should me my truth.
Supported by the existence of this universe,
Truth without exaggeration.

So I am saying this,
For you
My friend, My love letter ,My sunflower.

You exist for me
And your existence
Make the spring dance
The rain sing
The evening red
And the nights dark
The stars twinkle
The moon smile
You do this
Just by existing.

Just the fact that you exist
makes this world a better place
You make me a better human.

Your existence inspires me to become better
To become selfless
To become loving
And for this
I will always love you
I will always love us
I love you

©Manaswin Manu #Manaswin_Manu 
#Her

Manaswin Manu

चौदह भुवनों के जो स्वामी
जो सकल सृष्टि के रक्षक है
वो महाकाल वो महारुद्र
वो जो दुर्गुण के भक्षक हैं

चंद्र, सूर्य, और अग्नि तीनो
हैं जिनके त्रिनयन बने
वो विश्वरूप, वो रामेश्वर
हर स्वास कि जिनका पवन बने

वो नीलकंठ, वो गंगाधर
शशिशेखर, औघड़दानी है
वो शिव शम्भू, वो शर्भेश्वर
डमरूधर, वो शूलपाणि है

वो आदियोगी, वो आदिगुरु
जग के कर्ता, जग के कारण
वो त्रिपुरारी, पार्वतीपति
जिनके भक्त स्वयं हैं नारायण

वो पशुपति, वो भूतनाथ
वो सबसे भोले भाले है
कोई देव हो या कोई देवराज
महादेव सभी से निराले है

नंदी जिनके वाहन है
जो ध्यान मगन सन्यासी है
गले में सर्प, तन पर भभूत
वो जो श्मशान निवासी है

जो सगुन रूप में ध्यानी है
निर्गुण हो खुद ध्यान रूप
जो सबमे हैं, और कही नही
वो शिव शाश्वत आनंद अनूप

वो एकलिंग जिनकी पूजा में
रत ये सारी सृष्टि है
वो हवि, यज्ञमय, शून्य रूप
जिनमे लीन समष्टि है

हम हाथ जोड़ कर प्रभु
तुम्हारी  वंदना करें
है वामदेव, पंचवक्त्र
हम तुम्हारी अर्चना करें

हे सामप्रियः स्वरमयी
हे विरूपाक्ष त्रिनयन
तुम्हे नमन, तुम्हे नमन
तुम्हे नमन, तुम्हे नमन

©Manaswin Manu #Manaswin_Manu 
#aadiyogi 
#shiv

Manaswin Manu

चौदह भुवनों के जो स्वामी
जो सकल सृष्टि के रक्षक है
वो महाकाल वो महारुद्र
वो जो दुर्गुण के भक्षक हैं

चंद्र, सूर्य, और अग्नि तीनो
हैं जिनके त्रिनयन बने
वो विश्वरूप, वो रामेश्वर
हर स्वास कि जिनका पवन बने

वो नीलकंठ, वो गंगाधर
शशिशेखर, औघड़दानी है
वो शिव शम्भू, वो शर्भेश्वर
डमरूधर, वो शूलपाणि है

वो आदियोगी, वो आदिगुरु
जग के कर्ता, जग के कारण
वो त्रिपुरारी, पार्वतीपति
जिनके भक्त स्वयं हैं नारायण

वो पशुपति, वो भूतनाथ
वो सबसे भोले भाले है
कोई देव हो या कोई देवराज
महादेव सभी से निराले है

नंदी जिनके वाहन है
जो ध्यान मगन सन्यासी है
गले में सर्प, तन पर भभूत
वो जो श्मशान निवासी है

जो सगुन रूप में ध्यानी है
निर्गुण हो खुद ध्यान रूप
जो सबमे हैं, और कही नही
वो शिव शाश्वत आनंद अनूप

वो एकलिंग जिनकी पूजा में
रत ये सारी सृष्टि है
वो हवि, यज्ञमय, शून्य रूप
जिनमे लीन समष्टि है

हम हाथ जोड़ कर प्रभु
तुम्हारी  वंदना करें
है वामदेव, पंचवक्त्र
हम तुम्हारी अर्चना करें

हे सामप्रियः स्वरमयी
हे विरूपाक्ष त्रिनयन
तुम्हे नमन, तुम्हे नमन
तुम्हे नमन, तुम्हे नमन

©Manaswin Manu #Manaswin_Manu 
#shiv

Manaswin Manu

आँखों से आँसू सा, फिसलना हमारा
मायूस होके शाम सा, ढलना  हमारा
प्यार देखा उसने, मेरा टूटना भी देखा
देखा ही नही उसने, संभलना हमारा

ये सच है जब गया वो, मन बहुत दुखी था
जीवन था सूना सूना, दिल बहुत था रोया
पर सोचता हूँ अब ये, जो पाया था ठीक था वो ?
या ठीक ही हुआ जो, पाकर उसे है खोया

देखा था उसने उसपर, मन मचलना हमारा
देखा ही नही उसने, ये बदलना हमारा
प्यार देखा उसने, मेरा टूटना भी देखा
देखा ही नही उसने, संभालना हमारा

©Manaswin Manu #Manaswin_Manu 

#mentalHealth

Manaswin Manu

मन तुम्हारे संग लगा था
अब कहीं लगना कठिन है
तुम बिना रोना कठिन है
तुम बिना हँसना कठिन है

मन ने देखे थे सुनहरे
स्वप्न कुछ तुमसे मिलन के
स्वप्न टूटे है तो अब फिर
तुम बिना सोना कठिन है
तुम बिन जगना कठिन है

तुम जो मुझको भाग्य रेखा
से परे जाकर मिले थे
जब तप्त अधरों की छुवन से
नेह के पाटल खिले थे
उस एक अनुभव के सहारे
भाग्य को छलना कठिन है
है अलग राहें हमारी
साथ अब चलना कठिन है

मैं गगन हूँ
तारिकाएं है बहुत
तुम एक चंदा
तुम अलग कुछ यूँ हुए
ज्यों गगन से चाँद टूटे
कल्पना भी जिसकी न थी
वो ही अनहोनी हुई है
कब गगन ने यह था सोचा
जो अभी घटना घटी है
अब तिमिर है, कालिमा है
जंग जीवन मे छिड़ी है
एक सन्नाटा है बिखरा
पास में कोई नही है

पर व्यथा यह दो घड़ी की
अंत मे सब ठीक होगा
फिर नई आशा मिलेगी
फिर नया उतसाह होगा
सुख हो या हो दुख सभी का
एक सच मैंने है जाना
कोई न चिर साथी बनेगा
दोनों को है बीत जाना

जानता हूँ
पर जानकर भी
है कठिन यह मान पाना
प्रेम का दुख जब मिले तो
ज्ञान का पलना कठिन है
आशा के दीपक से विरह की
रात का ढलना कठिन है

©Manaswin Manu #Manaswin_Manu 
#Light
loader
Home
Explore
Events
Notification
Profile