tags

Best rainpoem Shayari, Status, Quotes, Stories, Poem

Find the Best rainpoem Shayari, Status, Quotes from top creators only on Nojoto App. Also find trending photos & videos.

  • 4 Followers
  • 4 Stories
  • Latest
  • Video

#keshav_quote_poetry
#kunalmakwana

#વરસાદને_પોકાર #gujaratikavita
#gujjuquotes #gujjupost #gujarati #rainpoem #rain #gujrati

12 Love
52 Views

#odiapoem #odia #odiashayari #odiaKabita #Odisha #odiavibes #rainpoem #rainyday #monsoon

5 Love
33 Views

""

"आज की बारीश... दो दिन की बारीश है, और बादल भी गरजता नहीं क्या मौसम आया है यारों, दिल भी संभलता नहीं दो दिन की बारिश है यार अब प्यार में मत पड़ हसीन मौसम ही कुछ ऐसा ये दिल समझता नहीं किसी वक्त में इस बारिश से दिल बहुत नाचता था बारीश में शायद मिलावट है,जो दिल मचलता नहीं सोचा बारीश का मौसम है, सब कुछ बिक जायेगा मगर दिल भी ऐसे टुटा है किसी जगह बिकता नहीं इस मौसम से हमें फायदा भी कुछ ऐसे हुआ है बारिश से आँखों के आंसू किसी को दिखता नहीं कैसा भी हो मौसम, पर इस शायर को लिखना है मगर कागज पे पानी गिरा अब शेर भी टिकता नहीं"

आज की बारीश... 

दो दिन की बारीश है, और बादल भी गरजता नहीं
क्या मौसम आया है यारों, दिल भी संभलता नहीं

दो दिन की बारिश है यार अब प्यार में मत पड़ 
हसीन मौसम ही कुछ ऐसा ये दिल समझता नहीं

किसी वक्त में इस बारिश से दिल बहुत नाचता था 
बारीश में शायद मिलावट है,जो दिल मचलता नहीं

सोचा बारीश का मौसम है, सब कुछ बिक जायेगा
मगर दिल भी ऐसे टुटा है किसी जगह बिकता नहीं

इस मौसम से हमें फायदा भी कुछ ऐसे हुआ है 
बारिश से आँखों के आंसू किसी को दिखता नहीं

कैसा भी हो मौसम, पर इस शायर को लिखना है 
मगर कागज पे पानी गिरा अब शेर भी टिकता नहीं

#raining #rainpoem #memory #feelinglove

11 Love

""

"সেই বৰষাজাকত তিতাৰ স্মৃতিয়ে আজিৰ বৰষাজাকতো মোক বাউলি কৰিছিল.... পাৰ্থক্য মাথো এটাই সেই বৰষাজাক বতৰৰ বৰষা নাছিল , আছিল মাথো কল্পনাৰ বৰষা কিন্তু তাত তুমি মই দুয়ো তিতি আছিলো.. কিন্তু আজিৰ বৰষাজাকৰ টোপালবোৰে মোৰ দেহ স্পৰ্শ কৰি গৈছিল কিন্তু তাত মোৰ লগত আৰু কল্পনাত কত'য়ে তুমি নাছিলা.."

সেই বৰষাজাকত তিতাৰ স্মৃতিয়ে আজিৰ বৰষাজাকতো মোক বাউলি কৰিছিল....
পাৰ্থক্য মাথো এটাই সেই বৰষাজাক বতৰৰ বৰষা নাছিল ,
 আছিল মাথো কল্পনাৰ বৰষা কিন্তু তাত তুমি মই দুয়ো তিতি আছিলো..
কিন্তু আজিৰ বৰষাজাকৰ টোপালবোৰে মোৰ দেহ স্পৰ্শ কৰি গৈছিল কিন্তু তাত মোৰ লগত আৰু কল্পনাত কত'য়ে তুমি নাছিলা..

#AssamesePoem #rainpoem

10 Love